आयुष्मान भारत राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने  आयुष्मान भारत राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन का शुभारंभ किया। इस योजना के माध्यम से 10 करोड़ से ज्यादा परिवारों के लगभग 50 करोड़ लोगों को मुफ्त इलाज मिल सकेगा। पढ़िए योजना से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें-
कैसे होगा चयन?
इस योजना के तहत 10 करोड़ परिवारों का चयन 2011 की जनगणना के आधार पर किए जाने का अनुमान है। आधार नंबर से परिवारों की सूची तैयार की गई है और आपको सुविधा का लाभ मिलेगा। सूची तैयार होने के बाद तब इस योजना का लाभ लेने के लिए किसी पहचान पत्र की जरूरत नहीं होगी।
कैसे पता चलेगा आपका आपका रजिस्ट्रेशन हो गया?
वर्ष 2011 की जनगणना में गरीबी रेखा से नीचे के लोगों को इसमें जगह मिलेगी। योजना में आपका नाम है या नहीं यह आप Mera.pm.jay.gov.in पर चेक कर सकते हैं। सबसे पहले आप इस वेबसाइट पर जाए। यहां होम पेज पर एक बॉक्स मिलेगा। इसमें मोबाइल नंबर डाले। उस पर ओटीपी आएगा। इसे डालते ही पता चल जाएगा कि आपका नाम इसमें जुड़ा है या नहीं।
इसके अलावा लोग 14555 पर कॉल कर यह पता कर सकते हैं कि उनका नाम इस योजना में जुड़ा है या नहीं। लोग पास के अस्पतालों में जाकर भी यह पता कर सकते हैं कि उनको इस योजना का लाभ मिलेगा या नहीं।
अस्पताल में कैसे मिलेगा लाभ
मरीज को अस्पताल में भर्ती होने के बाद अपने बीमा दस्तावेज देने होंगे। इसके आधार पर अस्पताल इलाज के खर्च के बारे में बीमा कंपनी को सूचित कर देगा और बीमित व्यक्ति के दस्तावेजों की पुष्टि होते ही इलाज बिना पैसे दिए हो सकेगा। इस योजना के तहत बीमित व्यक्ति सिर्फ सरकारी ही नहीं बल्कि निजी अस्पतालों में भी अपना इलाज करवा सकेगा। निजी अस्पतालों को जोड़ने का काम शुरू हो चुका है। इसका यह लाभ भी मिलेगा कि सरकारी अस्पतालों में अब भीड़ कम होगी। सरकार इस योजना के तहत देशभर में डेढ़ लाख से ज्यादा हेल्थ और वेलनेस सेंटर खोलेगी जोकि आवश्यक दवाएं और जांच सेवाएं निःशुल्क मुहैया जाएंगे।
बिना आधार के मिल पाएगा लाभ
आयुष्मान भारत योजना के लिए आपको आधार कार्ड की आवश्यकता नहीं। सुप्रीम कोर्ट के अनुसार किसी भी सरकारी स्कीम का लाभ उठाने के लिए आपको आधार कार्ड की जरूरत नहीं है।
कौनसी बीमारी का इलाज करवा सकेंगे
इस योजना के तहत मैटरनल हेल्थ और डिलीवरी की सुविधा, नवजात और बच्चों के स्वास्थ्य, किशोर स्वास्थ्य सुविधा, कॉन्ट्रासेप्टिव सुविधा और संक्रामक, गैर संक्रामक रोगों के प्रबंधन की सुविधा, आंख, नाक, कान और गले से संबंधित बीमारी के इलाज के लिए अलग से यूनिट होगी। बुजुर्गों का इलाज भी करवाया जा सकेगा।
किन राज्यों में कितने सेंटर
इसके दो कंपोनेंट हैं- पहला 10.74 लाख परिवारों को मुफ्त 5 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा। दूसरा हेल्थ वेलनेस सेंटर। इसमें देशभर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र अपडेट होंगे। इन सेंटर्स पर इलाज के साथ मुफ्त दवाइयां भी मिलेंगी। छत्तीसगढ़ में 1000, गुजरात में 1185, राजस्थान में 505, झारखंड में 646, मध्यप्रदेश में 700, महाराष्ट्र में 1450, पंजाब में 800, बिहार में 643, हरियाणा में 255।

वृद्ध जन कृषक सन्मान पेंशन योजना 2019

वृद्ध जन कृषक सन्मान पेंशन योजना 2019

लाखों किसानों के ऋण माफी के बाद सरकार ने उनको एक और तोहफा देते हुए एक और बड़ा कदम आगे बढ़ाया है । राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा दी गई घोषणा के अनुपालन में राजस्थान सामाजिक सुरक्षा वृद्ध जन कृषक सम्मान पेंशन योजना 2019 को जारी कर दी है और इस नियम को एक मार्च 2019 से लागू भी कर दिया गया है ।

राज्य सरकार ने प्रदेश के किसानों की वृद्धा अवस्था को ध्यान में रखकर इस योजना को लॉन्च कीया है , अन्नदाता किसानों की वृद्धावस्था में सम्मान के साथ जीवन-यापन एवं उनकी आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए विधानसभा में इस योजना की घोषणा कर दी गई है ।

इन वृद्ध जन को मिलेगा वृद्ध जन कृषक सम्मान पेंशन योजना का लाभ

वृद्ध जन कृषक सम्मान पेंशन योजना का लाभ राजस्थान की मूल निवासी अथवा राजस्थान में रह रहे 55 वर्ष से अधिक आयु की लघु एवं सीमांत महिला कृषक एवं 58 वर्ष से अधिक आयु के पुरुष कृषक को दिया जाएगा । जिनके पास अपने जीवन निर्वहन के लिए स्वयं की नियमित आय के अलावा कोई अन्य साधन ना हो । इस योजना के अंतर्गत किसानों को ₹750 प्रतिमाह पेंशन के रूप में दिया जाएगा । यहां तक की 75 वर्ष से अधिक आयु के कृषकों को इस योजना के अंतर्गत ₹1000 प्रतिमाह पेंशन देना सुनिश्चित किया गया है ।

11 लाख लघु एवं सीमांत किसानों को मिलेगा वृद्ध जन सम्मान पेंशन योजना का लाभ ।

प्रदेश में करीब 3 लाख लघु एवं सीमांत श्रेणी के वृद्ध जन किसान हैं , जिनमें से बात करें तो 19 लाख कृषक सम्मान में विभिन्न सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का लाभ प्राप्त कर रहे हैं । इस हिसाब से बचे 11 लाख लघु एवं सीमांत किसानों को वृद्ध जन कृषक सम्मान का लाभ दिया जाएगा । इनके ऊपर प्रतिवर्ष लगभग 990 करो रुपए का खर्च आ सकता है ।

वृद्ध जन कृषक सम्मान लांच करने वाली एजेंसी ।

वृद्ध जन कृषक सम्मान योजना सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग द्वारा लांच किया गया है । आवेदन के लिए किसानों को आवश्यक दस्तावेज जैसे भूमि प्रमाण पत्र निर्धारित प्रारूप में तहसीलदार अथवा अतिरिक्त तहसीलदार अथवा नायब तहसीलदार द्वारा आवेदन के 30 दिनों में सत्यापित किया जाना तय किया गया है ।

बेरोजगारी भत्ता योजना 2019

बेरोजगारी भत्ता योजना 2019

ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया के बारे में जानने से पहले इस योजना के बारे में जान लेना जरूरी है यह योजना उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा उन नागरिकों के लिए चलाई जा रही है जिनकी आर्थिक स्थिति कमजोर हैं और पढ़ाई करने के लिए उनको आर्थिक मदद की जरूरत है । उत्तर प्रदेश के नागरिक इस योजना के लिए अपना ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं और बेरोजगारी भत्ता योजना का लाभ ले सकते हैं ।

UTTAR PRADESH BEROJGARI BHATTA ELIGIBILITY / बेरोजगारी भत्ता योजना के लिए पात्रता ।

उत्तर प्रदेश बेरोजगारी भत्ता योजना का लाभ लेने के लिए आपके पास निम्नलिखित पात्रताएं होनी चाहिए ।

– Berojgari Bhatta Online Apply 2019 के लिए आपको उत्तर प्रदेश का निवासी होना जरूरी है ।

– बेरोजगारी भत्ता के लिए ऑनलाइन आवेदन करने वाले व्यक्ति को 12वीं पास या इसके समक्ष डिग्री होनी जरूरी है या फिर ग्रेजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री ।

– आवेदक को किसी प्रकार की सरकारी रोजगार का लाभ नहीं मिलना चाहिए यानी आवेदक पूरी तरह से बेरोजगार होना चाहिए ।

– आवेदक की सालाना आय 3 लाख से कम होनी चाहिए ।

– योजना का लाभ लेने के लिए व्यक्ति की आयु 25 वर्ष से 35 वर्ष के बीच होनी जरूरी है ।

उत्तर प्रदेश बेरोजगारी भत्ता ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया / REGISTRATION PROCESS FOR UTTAR PRADESH BEROJGARI BHATTA 2019

बेरोजगारी भत्ता योजना के लिए अगर आप ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं नीचे दिए गए प्रक्रिया को फॉलो करना जरूरी है ।

1. आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा वेबसाइट पर जाने के लिए यहां क्लिक करें। जिसके बाद आपके सामने उत्तर प्रदेश रोजगार रजिस्ट्रेशन की ऑफिशियल वेबसाइट खुल जाएगी और आपको रजिस्ट्रेशन पेज दिखाई देगा । रजिस्ट्रेशन पेज पर क्लिक करके आपको अपना पूरा डिटेल भर रजिस्ट्रेशन कंप्लीट कर लेना है ।

2. रजिस्ट्रेशन फॉर्म सफलतापूर्वक भरे जाने पर यूजर आईडी और पासवर्ड बनाकर उसे भविष्य के लिए सुरक्षित रख ले ।

3. अब आपको एप्लीकेशन फाइनल सबमिट करना है यानी दिए गए NEXT STEP के बटन पर क्लिक करके आगे बढ़ जाना है ।

4. अगले स्टेप में आपसे आपकी निजी जानकारी जैसे कि आपकी योग्यता, कौशल, और व्यक्तिगत जानकारी भरनी होगी , आपके द्वारा दी गई जानकारी को एक बार चेक जरूर कर लें सब सही होने पर फाइनल सबमिट कर दें । आपका रजिस्ट्रेशन उत्तर प्रदेश बेरोजगारी भत्ता योजना के तहत हो चुका हैं ।

5. जैसे ही आपका फाइनल सबमिशन होता है आपको एक पंजीकृत कार्ड दिखाई देती है इस कार्ड को प्रिंट करके आपने पास रख लेना है ताकि आपको इस योजना का लाभ मिल सके ।

PM-SYM (प्रधानमन्त्री श्रमयोगी मानधन योजना)

Q.1। PM-SYM क्या है?

उत्तर:। प्रधानमंत्री श्रम योगी मान-दान (पीएम-एसवाईएम) असंगठित कामगारों के लिए स्वैच्छिक और अंशदायी पेंशन योजना है, जिसकी मासिक आय 15,000 से कम है।

Q2। क्या यह एक सरकारी योजना है?

उत्तर:। हाँ।

Q3। इस योजना की सदस्यता कौन ले सकता है?

उत्तर:। 18-40 वर्ष की आयु का कोई भी असंगठित श्रमिक, जिसका काम प्रकृति में आकस्मिक है, जैसे कि गृह आधारित श्रमिक, सड़क विक्रेता, हेड लोडर, ईंट भट्ठा, कोबलर्स, चीर बीनने वाले, घरेलू कामगार, वॉशर-मैन, रिक्शा पुलर्स, ग्रामीण भूमिहीन मजदूर, स्वयं के खाता श्रमिक, कृषि श्रमिक, निर्माण श्रमिक, बीड़ी श्रमिक, हथकरघा श्रमिक, चमड़ा श्रमिक, आदि जिनकी मासिक आय 15,000 रुपये से कम है। कर्मचारी को किसी भी वैधानिक सामाजिक सुरक्षा योजनाओं जैसे राष्ट्रीय पेंशन योजना (एनपीएस), कर्मचारी राज्य बीमा निगम योजना, कर्मचारी भविष्य निधि संगठन योजना के तहत कवर नहीं किया जाना चाहिए और आयकर दाता नहीं है।

Q4। इस योजना का क्या लाभ है?

उत्तर:। यदि कोई असंगठित श्रमिक इस योजना की सदस्यता लेता है और 60 वर्ष की आयु तक नियमित योगदान का भुगतान करता है, तो उसे रु। की न्यूनतम मासिक पेंशन मिलेगी। 3000 / -। उसकी मृत्यु के बाद, पति / पत्नी को मासिक पारिवारिक पेंशन मिलेगी जो पेंशन का 50% है।

q5। लाभार्थी कितने वर्षों तक योगदान देगा?

उत्तर:। एक बार जब लाभार्थी 18-40 वर्ष के बीच प्रवेश आयु में इस योजना में शामिल हो जाता है, तो उसे 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने तक योगदान करना होगा।

Q6। योजना के तहत कितनी पेंशन मिलेगी? किस उम्र में?

उत्तर:। योजना के तहत, न्यूनतम पेंशन रु। 3000 / – प्रति माह का भुगतान किया जाएगा। यह पेंशन सब्सक्राइबर की 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने पर शुरू होगी।

q7। इस योजना में शामिल होने के हकदार कौन नहीं हैं?

उत्तर:। इस योजना के तहत कोई भी श्रमिक जो किसी भी वैधानिक सामाजिक सुरक्षा योजना जैसे एनपीएस, ईएसआईसी, ईपीएफओ और एक आयकर दाता के तहत आता है, इस योजना में शामिल होने का हकदार नहीं है।

प्रश्न 8। इस योजना में शामिल होने की प्रक्रिया क्या होगी?

उत्तर:। इस योजना के तहत, ग्राहक, निकटतम कॉमन सर्विस सेंटर पर जा सकते हैं और स्वयं-प्रमाणन आधार पर आधार नंबर और बचत बैंक खाते / जन-धन खाता नंबर का उपयोग करके पीएम-एसवाईएम के लिए नामांकित हो सकते हैं। एलआईसी के सभी शाखा कार्यालय, ईपीएफओ / ईएसआईसी के कार्यालय भी नामांकन के लिए योजना, इसके लाभ और पालन की जाने वाली प्रक्रिया के बारे में ग्राहकों को सुविधा प्रदान करेंगे। वे उन्हें निकटतम सीएससी का पता लगाने की सलाह भी देंगे।

प्रश्न 9। मैं नामांकन के लिए कहां जाऊं?

उत्तर:। आप नामांकन के लिए निकटतम कॉमन सर्विस सेंटर पर जा सकते हैं। आप लोकेटर का उपयोग locator.csccloud.in/ पर कर सकते हैं।

Q.10। क्या मुझे अपनी जन्म तिथि और आय का प्रमाण देना होगा?

उत्तर:। आयु या आय का कोई अलग प्रमाण नहीं देना होता है। स्व-प्रमाणन और आधार संख्या प्रदान करना नामांकन का आधार होगा। हालांकि किसी भी झूठी घोषणा के मामले में, उचित दंड को आकर्षित कर सकता है।

Q.11। फंड मैनेजर कौन होगा?

उत्तर:। एलआईसी फंड मैनेजर होगा और पेंशन भुगतान के लिए सेवा प्रदाता भी होगा।

Q.12। क्या फंड L.I.C. के पास सुरक्षित है?

उत्तर:। फंड 100% सुरक्षित है। कोष के प्रबंधन और पर्यवेक्षण की पूरी जिम्मेदारी राष्ट्रीय सामाजिक सुरक्षा बोर्ड के पास होगी जो श्रम और रोजगार के केंद्रीय मंत्री की अध्यक्षता में कार्यात्मक है।

प्रश्न 13। बाहर निकलने के प्रावधान क्या हैं?

उत्तर:। असंगठित श्रमिकों के रोजगार की कठिनाइयों और अनिश्चित प्रकृति को देखते हुए, बाहर निकलने के प्रावधान लचीले हैं। बाहर निकलने के प्रावधान निम्नानुसार हैं:

यदि लाभार्थी किसी संगठित क्षेत्र में जाता है और 3 साल की न्यूनतम अवधि के लिए रहता है, तो उसका खाता सक्रिय होगा लेकिन सरकार का योगदान (50%) रोक दिया जाएगा। यदि लाभार्थी अंशदान की पूरी राशि का भुगतान करने के लिए सहमत हो जाता है, तो उसे इस योजना में बने रहने की अनुमति होगी। 60 वर्ष की आयु में, उसे प्रचलित बचत बैंक दरों के बराबर ब्याज के साथ अपना योगदान वापस लेने की अनुमति होगी।

     यदि वह बकाया विकलांगता या किसी अन्य कारणों से योगदान करने में असमर्थ है, तो लाभार्थी स्वेच्छा से न्यूनतम 5 वर्षों के नियमित योगदान के बाद योजना से बाहर निकलने का विकल्प चुन सकता है।

  बाहर निकलने पर, उसका पूरा योगदान (सरकार के योगदान को छोड़कर) बचत बैंक दरों के बराबर ब्याज के साथ वापस किया जाएगा।

Q.14। LIC की भूमिका क्या है?

उत्तर:। एलआईसी योजना के लिए एक फंड मैनेजर के रूप में कार्य करेगा और योजना के लिए सदस्यता लेने वाले सभी गैर-संगठित श्रमिकों को पेंशन के भुगतान के लिए एक सेवा प्रदाता भी होगा।

Q.15। योगदान का तरीका क्या है?

उत्तर:। मुख्य रूप से, योगदान का तरीका मासिक आधार पर ऑटो-डेबिट द्वारा किया जाता है। हालांकि, इसमें तिमाही, छमाही और वार्षिक योगदान के प्रावधान भी होंगे। कॉमन सर्विस सेंटर में नकद में पहले योगदान का भुगतान किया जाना है।

Q.16। मुझे कितना योगदान देना है?

उत्तर:। योजना के प्रवेश काल में ग्राहक के योगदान की वास्तविक राशि निर्धारित की जाएगी।

Q.17। ऑटो-डेबिट सुविधा है या नहीं?

उत्तर:। हाँ। मासिक सदस्यता अपने लिंक किए गए बचत खाते से स्वचालित रूप से हर महीने की एक निश्चित तारीख को डेबिट की जाएगी।

Q.18। सरकार की क्या जिम्मेदारी है। भारत की?

उत्तर:। योजना का संचालन श्रम और रोजगार मंत्रालय द्वारा किया जाएगा। श्रम और रोजगार मंत्रालय एक समर्पित कॉल सेंटर और प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट (पीएमयू) स्थापित करेगा। जेएस और महानिदेशक (श्रम कल्याण) इस योजना को प्रभावी ढंग से संचालित करने के लिए पीएमयू के नोडल अधिकारी होंगे। प्रदर्शन ऑडिट, पर्याप्तता और फंड प्रबंधन के लिए भी पीएमयू जिम्मेदार होगा। संपूर्ण योजना की निगरानी राष्ट्रीय सामाजिक सुरक्षा बोर्ड (NSSB) द्वारा की जाएगी, जैसा कि UWSS, अधिनियम 2008 की धारा 5 (8) (c) में अनिवार्य है।

प्रश्न 19। क्या कोई प्रशासनिक लागत होगी?

उत्तर:। ग्राहक के लिए कोई प्रशासनिक लागत नहीं होगी क्योंकि यह विशुद्ध रूप से भारत सरकार की सामाजिक सुरक्षा योजना है।

Q.20। नामांकन सुविधा है या नहीं?

उत्तर:। हां, इस योजना के तहत, नामांकन की सुविधा उपलब्ध है। लाभार्थी योजना के तहत किसी को भी नामित कर सकता है।

Q.21। क्या पारिवारिक पेंशन है?

उत्तर:। हां, योजना के तहत पारिवारिक पेंशन का प्रावधान है। यह केवल ग्राहक के पति या पत्नी के लिए लागू होता है। यदि पेंशन समाप्त होने के बाद ग्राहक की मृत्यु हो जाती है, तो लाभार्थी का पति पेंशन का 50% प्राप्त करने का हकदार होगा।

Q.22। पूरे भारत में इस योजना को शुरू करने में कितना समय लगेगा?

उत्तर:। योजना को चयनित सीएससी में 15 फरवरी, 2019 तक पूरे भारत में 25 फरवरी, 2019 तक पूरा कर लिया जाएगा।

Q.23 क्या सब्सक्राइबर को किसी भी स्तर पर कोई नुकसान हुआ है?

उत्तर:। किसी भी समय सब्सक्राइबर को कोई नुकसान नहीं होता है। भले ही सब्सक्राइबर नियमित योगदान के भुगतान के 5 साल बाद भी स्कीम में मौजूद हो, लेकिन उसका पूरा योगदान बचत की बैंक दरों के बराबर ब्याज के साथ लौटाया जाएगा।

Q.24 यदि सदस्यता का भुगतान रोक दिया जाता है, तो क्या कोई ग्राहक फिर से इस योजना में शामिल हो सकता है / फिर से जीवित हो सकता है?

उत्तर:। यदि सदस्यता के भुगतान को रोक दिया गया है या देरी हो रही है, तो भी ग्राहक बाद की अवस्था में ब्याज के साथ बकाया सदस्यता का भुगतान करने के बाद योजना को पुनर्जीवित कर सकता है।

Q.25 क्या सब्सक्राइबर को जमा राशि का विवरण मिलेगा?

उत्तर:। हां, ग्राहक को अपने मोबाइल पर प्रत्येक लेनदेन पर मिनी स्टेटमेंट के रूप में sms मिलेगा।

Q.26। यदि ग्राहक नियमित योगदान के 10 साल से पहले योजना से बाहर निकलता है तो क्या होता है?

उत्तर:। ऐसी स्थिति में ग्राहक को बचत के बैंक ब्याज के साथ उसके कुल अंशदान का ही भुगतान किया जाएगा।

प्र। 27 यदि ग्राहक 10 साल बाद योजना से बाहर निकलता है लेकिन पेंशन शुरू होने से पहले क्या होता है?

उत्तर:। ऐसी घटना में ग्राहक को उसके संचित ब्याज के साथ उसके अंशदान का भुगतान किया जाएगा। हालाँकि, वह सरकार का हिस्सा प्राप्त करने का हकदार नहीं होगा।

Q.28। पेंशन शुरू होने से पहले मृत्यु के मामले में क्या होता है?

उत्तर:। इस तरह की घटना में, यदि किसी लाभार्थी ने नियमित योगदान दिया है और किसी कारण से उसकी मृत्यु हो गई है, तो उसका जीवनसाथी शेष अवधि के लिए नियमित योगदान के भुगतान के बाद योजना में शामिल होने और उसे जारी रखने का हकदार होगा। अंशदान की अवधि पूरी होने पर, पति / पत्नी को मासिक पेंशन रु। 3000 / -। वैकल्पिक रूप से, यदि पति या पत्नी इच्छा रखते हैं, तो सदस्य के अंशदान की राशि बैंक दरों के ब्याज के बराबर ब्याज के साथ उसके / उसके नामांकित व्यक्ति को वापस कर दी जाएगी।

PM-SYM

Q.29। मैं अपनी शिकायत को हल करने के लिए कहां जाऊं?

उत्तर:। आप पीएम-एसवाईएम से संबंधित किसी भी शिकायत / शिकायत के लिए टोल फ्री नंबर पर कॉल कर सकते हैं या सीएससी या श्रम कल्याण कार्यालय पर जा सकते हैं।

Q.30। क्या पीएम-एसवाईएम का सदस्य बनने के लिए कोई शैक्षणिक योग्यता निर्धारित है?

उत्तर:। नहीं। इस योजना में शामिल होने के लिए कोई न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता आवश्यक नहीं है।

Q.31। क्या सब्सक्राइबर योजना के तहत निर्धारित राशि से अधिक और स्वैच्छिक योगदान कर सकता है? यदि हां, तो सब्सक्राइबर को क्या फायदे होंगे?

उत्तर:। नहीं। स्कीम में शामिल होने के समय सब्सक्राइबर को केवल निर्धारित राशि का योगदान करना होता है।

प्र 32. क्या। क्या अतिरिक्त या उच्चतर योगदान देकर योजना में शामिल होने के लिए 40 साल से ऊपर के असंगठित कामगार के लिए उम्र में छूट दी जा सकती है?

उत्तर:। योजना के प्रावधान के तहत ऐसी कोई छूट उपलब्ध नहीं है।

प्र 33. क्या। क्या ग्राहक की मृत्यु के बाद कोई नामांकन सुविधा (पति या पत्नी के अलावा) उपलब्ध है?

उत्तर:। जीवनसाथी, यदि जीवित है, तो मृत्यु की सूचना और मृत्यु प्रमाण पत्र के उत्पादन पर स्वचालित रूप से पारिवारिक पेंशन का लाभार्थी होगा।

प्र 34.। क्या सब्सक्राइबर द्वारा योगदान में किसी भी ब्रेक के मामले में कोई अतिरिक्त शुल्क होगा? यदि हां, तो अतिरिक्त शुल्कों की मात्रा क्या होगी?

उत्तर:। यदि किसी सब्सक्राइबर ने लगातार योगदान का भुगतान नहीं किया है, तो उसे संपूर्ण बकाया राशि का भुगतान करके अपने योगदान को नियमित करने की अनुमति दी जाएगी |

Q.35 60 वर्ष की आयु के बाद पेंशनभोगी और उसके जीवनसाथी की मृत्यु की स्थिति में आश्रितों को पेंशन का भुगतान किया जाएगा?

उत्तर:। नहीं, ग्राहक के साथ-साथ उसके पति या पत्नी की मृत्यु के बाद, आश्रित पेंशन के भुगतान के हकदार नहीं होंगे।

Q.36 नामांकन केंद्र में कौन से दस्तावेज जमा करने हैं?

उत्तर:। ग्राहक को आधार-कार्ड, बचत बैंक पासबुक और ऑटो-डेबिट सुविधा के लिए सहमति फॉर्म के साथ एक स्व-प्रमाणित प्रपत्र प्रदान करना होगा।

Q.37 क्या सब्सक्राइबर को 60 साल की उम्र तक मासिक योगदान देने की आवश्यकता है?

उत्तर:। हाँ। योजना में शामिल होने के बाद, ग्राहक को 60 वर्ष की आयु तक निर्धारित मासिक योगदान का भुगतान करना होगा।

Q.38 पेंशन पाने के लिए 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद, सब्सक्राइबर द्वारा क्या कार्रवाई की जानी चाहिए?

उत्तर:। 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद मासिक पेंशन ग्राहक के लिंक्ड बैंक खाते में जमा की जाएगी।

Q.39 यदि पति और पत्नी दोनों PMSYM के सदस्य हैं और दोनों की मृत्यु हो जाती है, तो क्या परिवार के अन्य सदस्य पेंशन या अन्य लाभ प्राप्त करने के लिए पात्र होंगे?

उत्तर:। नामांकित व्यक्ति ब्याज के साथ सब्सक्राइबर (दोनों) के योगदान को वापस ले सकता है।

Q.40 अगर सब्सक्राइबर की मृत्यु हो जाती है और उसका / उसकी जीवनसाथी योगदान के भुगतान के द्वारा स्कीम को जारी रखने का विरोध करती है, तो ऐसे मामले में, क्या अंशदान का भुगतान मूल ग्राहक के शेष वर्षों के लिए किया जाना है या पति द्वारा 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने तक?

उत्तर:। ऐसे मामले में, अंशदान का भुगतान शेष / शेष अवधि के लिए किया जाएगा जब तक कि मूल ग्राहक 60 वर्ष की आयु प्राप्त नहीं कर लेता।

Q.41 क्या शिक्षा, विवाह और निर्माण के लिए अंतरिम ऋण प्राप्त करने का कोई प्रावधान है।

उत्तर:। योजना में ऐसी कोई ऋण सुविधा उपलब्ध नहीं है।

Q.42 राज्य सरकारें अपने संबंधित असंगठित श्रमिक योजनाओं के तहत विभिन्न लाभ प्रदान कर रही हैं। क्या ऐसे सदस्य वर्तमान PMSYM योजना का लाभ उठा सकते हैं?

उत्तर:। हां, यदि ग्राहक इस योजना में शामिल होने के लिए पात्र है या नहीं।

Q.43 क्या कोई लाभार्थी जो पेंशन भविष्य निधि योजना का ग्राहक है, PMSYM में शामिल होने के लिए पात्र हो सकता है?

उत्तर:। नहीं।

प्र .44 क्या अटल पेंशन योजना के तहत लाभार्थी PMSYM के तहत लाभ उठा सकते हैं?

उत्तर:। हाँ। यदि पात्र हो तो अटल पेंशन योजना के अलावा पीएम-एसवाईएम में भी शामिल हो सकते हैं।

Q.45 क्या भविष्य में मुद्रास्फीति के कारण पेंशन की मात्रा रु। 30,000 / – से अधिक बढ़ाई जाएगी?

उत्तर:। वर्तमान में, ऐसा कोई प्रावधान नहीं है, लेकिन भविष्य की परिस्थितियों पर निर्भर करता है।

Q.46 ग्राहक के योगदान के लिए भुगतान का तरीका क्या होगा?

उत्तर:। नकद द्वारा भुगतान किया जाने वाला प्रारंभिक योगदान। हालाँकि, बाद में मासिक अंशदान ग्राहक के बचत बैंक खाते / जन-धन खाते से स्वतः डेबिट किया जाएगा।

Q.47 अगर श्रमिक इस योजना में असंगठित श्रमिक के रूप में शामिल हो जाता है और वह संगठित क्षेत्र में शामिल हो जाता है, तो ईपीएफओ के तहत नामांकित हो जाता है और फिर से असंगठित क्षेत्र में वापस आ जाता है, उसी के लिए क्या तरीके होंगे?

उत्तर:। यदि कार्यकर्ता असंगठित क्षेत्र से संगठित क्षेत्र में जाता है, तो ऐसी स्थिति में, ग्राहक योजना के साथ आगे बढ़ सकते हैं, लेकिन सरकार। योगदान बंद हो जाएगा और सदस्य को सरकार के बराबर अतिरिक्त राशि का भुगतान करना होगा। शेयर। वैकल्पिक रूप से, वह अपने योगदान को ब्याज के साथ वापस ले सकता है।

Q.48 यदि श्रमिक आय के स्रोत को खो देता है और मासिक प्रीमियम में योगदान नहीं दे पाता है तो क्या होगा?

उत्तर:। इस तरह की घटना में वह पहले से विस्तृत प्रावधान के अनुसार योजना से बाहर निकल सकता है।

Q.49 यदि स्कीम में शामिल होने के बाद सब्सक्राइबर की आय रु। 15,000 / – से अधिक हो जाती है तो क्या होगा

उत्तर:। स्कीम में सब्सक्राइबर जारी रह सकता है।

प्रश्न 50 आधार आधारित प्रमाणीकरण / ई-केवाईसी के लिए क्या मापदण्ड होगा?

उत्तर:। बायोमेट्रिक्स के माध्यम से।

Q.51 हेल्प लाइन / शिकायत निवारण तंत्र कौन संचालित करेगा?

उत्तर:। इसके लिए एक निर्दिष्ट कॉल सेंटर है और टोल फ्री नंबर 1800 2676 888 है।

Q.52 क्या कुछ विशेष मामलों के मामले में योगदान की आंशिक वापसी है? यदि हाँ, तो लॉक-इन अवधि कितनी है?

उत्तर:। आंशिक रूप से या पूरी तरह से योगदान की वापसी के लिए ऐसी कोई सुविधा नहीं है।

Q.53 क्या ई-कार्ड को नुकसान / क्षति, आदि के मामले में फिर से डाउनलोड किया जा सकता है? क्या इसके लिए कोई शुल्क देना होगा?

उत्तर:। हां, नुकसान या क्षति के मामले में ई-कार्ड डाउनलोड किया जा सकता है।

PM-SYM

Q.54 क्या सहकारी बैंक में बचत बैंक खाते को योगदान के भुगतान के लिए ऑटो-डेबिट सुविधा से भी जोड़ा जा सकता है?

उत्तर:। यदि सहकारी बैंक सीबीएस प्लेटफॉर्म पर है, तो बचत बैंक खाते को ऑटो डेबिट के लिए जोड़ा जा सकता है।

Q.55 यदि किसी भी राज्य ने UWSSA 2008 के तहत असंगठित श्रमिक को पंजीकृत नहीं किया है, तो क्या इस योजना के तहत नामांकन की प्रक्रिया अधिनियम की धारा 10 (3) के तहत पंजीकरण की प्रक्रिया मानी जा सकती है?

उत्तर:। सं। 10 के तहत पंजीकरण (3) और योजना के तहत नामांकन अलग-अलग प्रक्रियाएं हैं।

Q.56 यदि सीएससी नेटवर्क का उपयोग पंजीकरण के लिए किया जाना है, तो सेवा शुल्क, प्रति पंजीकरण कितना होगा और लागत कौन वहन करेगा?

उत्तर:। नामांकन के लिए सेवा शुल्क एमओएल द्वारा भुगतान किया जाना चाहिए और सब्सक्राइबर द्वारा देय कोई सेवा शुल्क नहीं।

Q.57 क्या बैंक भरे हुए डेबिट प्रयोजन के लिए डाउनलोड किया हुआ भरा हुआ आवेदन फॉर्म पर्याप्त होगा – कार्यकर्ता को बैंक में किसी अन्य फॉर्म को भरने की आवश्यकता नहीं होगी?

उत्तर:। फ़ॉर्म में उसके खाते से ऑटो डेबिट की सहमति के लिए एक अनुभाग है, इसलिए किसी अन्य फॉर्म की आवश्यकता नहीं है।

Q.58 एसएमएस भाषा राज्य की क्षेत्रीय भाषा में है या केवल अंग्रेजी / हिंदी में है?

उत्तर:। एसएमएस अंग्रेजी / हिंदी भाषा में भेजा जाएगा।

Q.59 सुविधा केंद्र के निकटतम स्थान को खोजने के लिए कोई इंटरेक्टिव मानचित्र है?

उत्तर:। सीएससी साइट पर उपलब्ध निकटतम स्थान या सूचना सुविधा केंद्रों पर उपलब्ध होगी। आप लोकेटर का उपयोग locator.csccloud.in/ पर कर सकते हैं।

Q.60 सदस्यता के चूक के मामले में, डिफ़ॉल्ट प्रीमियम के भुगतान के लिए क्या समानता होगी? क्या यह ऑटो डेबिट के माध्यम से या नकद या चेक के माध्यम से है?

उत्तर:। जुर्माना / ब्याज के साथ अंशदान की राशि उसकी सहमति के आधार पर सब्सक्राइबर के खाते में डेबिट की जाएगी।

Q.61 एक से अधिक पति या पत्नी होने के मामले में, किस पति को नामांकित घोषित किया जाएगा और किसे पारिवारिक पेंशन मिलेगी?

उत्तर:। जो पति द्वारा नामांकित है, वह परिवार पेंशन पाने का हकदार होगा। हालांकि, प्रतिद्वंद्वी दावेदारों के मामले में, अदालत का आदेश प्रबल होगा।

Q.62 क्या पेंशन खाते के स्थानांतरण के लिए कोई प्रावधान है अगर कार्यकर्ता ऑटो डेबिट के लिए लिंक किए गए बैंक खाते को बदलता है?

उत्तर:। नहीं, माइग्रेशन की आवश्यकता है, पेंशन खाता संख्या अद्वितीय होगी और सब्सक्राइबर के बैंक खाते से जुड़ी होगी।

Q.63 यदि PM-SYM सब्सक्राइबर शारीरिक रूप से ऑटो-डेबिट सुविधा के लिए सहमति देता है। लेकिन अगर उसके बैंक खाते में अपर्याप्त राशि है, तो उसके खाते का क्या होगा?

उत्तर:। इसे भुगतान में डिफ़ॉल्ट माना जाएगा और उसे समय-समय पर सरकार द्वारा तय किए जाने वाले दंड शुल्क के साथ, यदि कोई हो, तो पूरा बकाया भुगतान करके अपने योगदान को नियमित करने की अनुमति होगी।

प्र .64 यदि किसी ग्राहक के पास पुराना आधार कार्ड है, जहाँ केवल जन्म का वर्ष लिखा है, उस स्थिति में जन्म तिथि कैसे निर्धारित की जाती है और किस तारीख को पेंशन शुरू होगी?

उत्तर:। ग्राहक की स्व-प्रमाणन के आधार पर जन्म की तारीख निर्धारित की जाएगी। उसी के आधार पर योगदान का निर्धारण किया जाएगा।

Q.65 PM-SYM के सदस्य के मासिक योगदान के लिए नियत तारीख क्या है?

उत्तर:। हर महीने नामांकन की तारीख।

Q.66 PM-SYM के सब्सक्राइबर को मासिक योगदान की स्थिति कैसे पता चलेगी?

उत्तर:। मासिक योगदान में कटौती के बाद पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एक एसएमएस भेजा जाएगा।

Q.67 क्या ग्राहक को PM-SYM के पंजीकरण के समय अपनी तस्वीर जमा करनी है?

उत्तर:। किसी फोटोग्राफ की जरूरत नहीं।

 

 

Introduction to the computer  (कंप्यूटर जानकारी हिंदी में ) 

Introduction to the computer  (कंप्यूटर जानकारी हिंदी में ) 

कंप्यूटर को अगर सरल भाषा में कहा जाये तो यह हार्डवेयर और सॉफ्टवेर का संगम है | यह दोनों बहुत ही महत्वपूर्ण है कंप्यूटर के लिए |

Computer Full Form (कंप्यूटर का पूरा नाम) 

“Commonly Operated Machine Particularly Used in Technical and Educational Research”

  • C – Commonly
  • O – Operated
  • M – Machine
  • P– Particularly
  • U– Used
  • T – Technical
  • E – Educational
  • R – Research

Characteristics (विशेषताओं)

  • स्पीड (speed )
  • एक्यूरेसी (accuracy )
  • ऑटोमेशन (automation )
  • largest स्टोरेज capacity
  • विवधता (versatility)

Computer Type (कंप्यूटर टाइप्स ) 

  • Analog Computer
  • Work Station
  • Mini Computer
  • MainFrame Computer
  • Super Computer
  • Micro Computer 

2.Introduction to GUI Based Operating System( कैसे चलता है कंप्यूटर )

GUI What?

GUI ही होता है जो कंप्यूटर को इतना आसान बना दिया है | वरना कंप्यूटर किसी आम व्यक्ति के लिए चलाना आसान नहीं था | तो हमें GUI  को ध्यानवाद बोलना चाहिए |

GUI  का पूरा नाम क्या है ?

इसका पूरा नाम Graphical User Interface(GUI ) होता है | *

इसका एक दोस्त भी है जिसका नाम Command Line Interface (CLI) है | जो लिनक्स में उसे होता है |

GUI के कुछ महत्व्पूर्ण विशेषता है | 

  • User Interface
  • Task Bar
  • Icons
  • Menu
  • Running an Application
  • Date and Time
  • Display Properties
  • File and Directory Management